Bounce Rate क्या है और इसे कैसे कम करे?

0
28

Bounce Rate क्या है और इसे कैसे कम करे? Bounce rate एक मीट्रिक है जो किसी Website पर visitor के प्रतिशत को मापता है जो केवल एक पृष्ठ को देखने के बाद छोड़ देते हैं। दूसरे शब्दों में, यह इस बात का माप है कि कितने लोग किसी Website पर जाते हैं और फिर साइट ब्राउज़ करने के बजाय खोज परिणामों या अन्य रेफ़रिंग पेज पर वापस “Bounce” करते हैं।

Bounce Rate क्या है और इसे कैसे कम करे?
Bounce Rate क्या है और इसे कैसे कम करे?
Bounce Rate क्या है और इसे कैसे कम करे?

Bounce rate Website स्वामियों के लिए एक महत्वपूर्ण मीट्रिक है क्योंकि यह Visitors को बनाए रखने और उन्हें अपनी सामग्री में शामिल करने में Website की प्रभावशीलता को दर्शाता है। एक उच्च Bounce rate यह संकेत दे सकती है कि कोई Website अपने Visitors की आवश्यकताओं या अपेक्षाओं को पूरा नहीं कर रही है, और उन्हें दूर कर सकती है। दूसरी ओर, एक कम Bounce rate से पता चलता है कि एक Website Visitors को दिलचस्पी और जुड़ाव बनाए रखने में सक्षम है, और उन्हें ग्राहकों या लीड में परिवर्तित करने में अधिक सफल हो सकती है।

अपनी Website की Bounce rate को समझकर और उस पर नज़र रखकर, Website के मालिक यह समझ सकते हैं कि उनकी Website कितना अच्छा प्रदर्शन कर रही है और सुधार के क्षेत्रों की पहचान कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, यदि किसी Website की Bounce rate अधिक है, तो Website का स्वामी उपयोगकर्ता के अनुभव को बेहतर बनाने और visitor को साइट पर लंबे समय तक बनाए रखने के लिए Design में सुधार करने, सामग्री को अपडेट करने या अन्य परिवर्तन करने पर विचार कर सकता है।

एक उच्च Bounce rate यह संकेत दे सकती है कि कोई Website अपने Visitors की आवश्यकताओं या अपेक्षाओं को पूरा नहीं कर रही है। यदि visitor पहुंचने के तुरंत बाद किसी Website को छोड़ देते हैं, तो यह इस बात का संकेत हो सकता है कि Website वह जानकारी या संसाधन प्रदान नहीं कर रही है जिसकी वे तलाश कर रहे थे। वैकल्पिक रूप से, उच्च Bounce rate वाली Website अनाकर्षक या Navigate करने में कठिन हो सकती है, जिसके कारण Visitors की रुचि कम हो जाती है और वे चले जाते हैं।

किसी Website की सामग्री की गुणवत्ता और प्रासंगिकता को दर्शाने के अलावा, उच्च Bounce rate का Website की खोज इंजन Ranking और समग्र प्रदर्शन पर भी नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। किसी Website की गुणवत्ता और प्रासंगिकता निर्धारित करने के लिए Google जैसे खोज इंजन Bounce rate सहित विभिन्न मीट्रिक का उपयोग करते हैं। एक उच्च उछाल दर खोज इंजनों को संकेत दे सकती है कि एक Website अपने Visitors की आवश्यकताओं को पूरा नहीं कर रही है, जिससे Ranking कम हो सकती है और ट्रैफ़िक कम हो सकता है।

Website के मालिक Bounce rate का उपयोग एक प्रमुख संकेतक के रूप में कर सकते हैं कि उनकी Website कितना अच्छा प्रदर्शन कर रही है और सुधार करने के लिए एक गाइड के रूप में। अलग-अलग पेजों की Bounce rate का विश्लेषण करके, Website के मालिक यह पहचान सकते हैं कि कौन से पेज खराब प्रदर्शन कर रहे हैं और उन्हें संशोधित या अपडेट करने की आवश्यकता हो सकती है। वे यह देखने के लिए समय के साथ अपनी Website की समग्र Bounce rate को भी Track कर सकते हैं कि उपयोगकर्ता अनुभव को बेहतर बनाने के उनके प्रयासों का सकारात्मक प्रभाव पड़ रहा है या नहीं। Bounce rate को कम रखने और Visitors को आकर्षित करने से, Website के मालिक अपनी खोज इंजन Ranking में सुधार कर सकते हैं, अपनी Website पर अधिक ट्रैफ़िक ला सकते हैं और अंततः अपने ऑनलाइन व्यवसाय को बढ़ावा दे सकते हैं।

Bounce Rate कितना होना चाहिए ?

एक अच्छी Bounce rate का निर्धारण करना चुनौतीपूर्ण हो सकता है क्योंकि यह Website के प्रकार और इसके लक्ष्यों के आधार पर महत्वपूर्ण रूप से भिन्न हो सकती है। उदाहरण के लिए, एक पृष्ठ वाली Website या स्पष्ट कॉल टू एक्शन वाले लैंडिंग पृष्ठ की Bounce rate ऊंची हो सकती है, लेकिन फिर भी उसे सफल माना जाता है यदि यह Visitors के उच्च प्रतिशत को ग्राहकों या लीड में परिवर्तित करता है। दूसरी ओर, एक ब्लॉग या समाचार Website जिसका उद्देश्य Visitors को कई पृष्ठों से जोड़े रखना है, उसकी Bounce rate कम हो सकती है, लेकिन फिर भी कम रूपांतरण दर होने पर वह कम प्रभावी हो सकती है।

सामान्य तौर पर, आमतौर पर ऐसी Bounce rate का लक्ष्य रखना अच्छा अभ्यास माना जाता है जो उच्च के बजाय कम हो। हालांकि, किसी Website के विशिष्ट लक्ष्यों और जिस संदर्भ में यह काम कर रहा है, उस पर विचार करना महत्वपूर्ण है।

यहां विभिन्न प्रकार की वेबसाइटों के लिए कुछ औसत Bounce दरें दी गई हैं:

Blogs: 40-60%
Content websites: 30-50%
Lead generation websites: 20-40%
E-commerce websites: 20-40%
Landing pages: 70-90%

ध्यान रखें कि ये केवल मोटे तौर पर अनुमान हैं और विभिन्न कारकों के आधार पर व्यापक रूप से भिन्न हो सकते हैं, जैसे सामग्री की गुणवत्ता और प्रासंगिकता, Website की Design और उपयोगिता, और कॉल टू एक्शन की प्रभावशीलता। अंत में, सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि किसी Website के विशिष्ट लक्ष्यों को समझना और वांछित परिणाम प्राप्त करने के लिए उपयोगकर्ता अनुभव और जुड़ाव में सुधार करने का प्रयास करना है।

How to Improve Bounce rate ?

1- अपनी Website की Loading Speed में सुधार करें

जब Visitors अनुभव और Search Engine Ranking की बात आती है तो Website लोड करने की Speed एक महत्वपूर्ण कारक है। Visitors उम्मीद करते हैं कि Websites जल्दी से लोड होंगी, और शोध से पता चला है कि धीमी Loading समय उच्च Bounce Rate और जुड़ाव के निचले स्तर तक ले जा सकता है। इसके अलावा, Google जैसे खोज इंजन Loading Speed को एक रैंकिंग कारक के रूप में उपयोग करते हैं, इसलिए धीमी Speed से लोड होने वाली Website को खोज इंजन परिणामों में दंडित किया जा सकता है।

इस Blog Post का लक्ष्य Website की Loading Speed में सुधार के लिए टिप्स और रणनीतियां प्रदान करना है।

इस Post में सलाह का पालन करके, Website के मालिक अपनी साइट के Visitors अनुभव में सुधार कर सकते हैं और अपनी Search Engine Ranking को संभावित रूप से बढ़ा सकते हैं। 

हम Images को अनुकूलित करने, सामग्री वितरण Network (CDN) का उपयोग करने, रीडायरेक्ट की संख्या कम करने और ब्राउज़र कैशिंग सक्षम करने जैसे विषयों को कवर करेंगे।

इन तकनीकों को लागू करके, Website के मालिक अपनी साइटों को अपने आगंतुकों के लिए तेज़ और अधिक मनोरंजक बना सकते हैं।

2- Images अनुकूलन करें

एक Website की Loading Speed को प्रभावित करने वाले मुख्य कारकों में से एक Images का आकार और अनुकूलन है। बड़ी, अडॉप्टिमाइज्ड छवियां Website को महत्वपूर्ण रूप से धीमा कर सकती हैं, विशेष रूप से धीमे इंटरनेट कनेक्शन वाले मोबाइल उपकरणों पर।

Web के लिए Images को अनुकूलित करने के लिए, आप कुछ महत्वपूर्ण कदम उठा सकते हैं:

Web के लिए Images को Optimize करने के लिए ImageOptim या TinyPNG जैसे टूल का उपयोग करें। ये उपकरण गुणवत्ता का त्याग किए बिना Images के फ़ाइल आकार को कम कर सकते हैं, जिससे उन्हें Website पर तेजी से लोड किया जा सकता है।

उपयुक्त फ़ाइल स्वरूपों का उपयोग करें। JPEG और PNG जैसे कुछ छवि फ़ाइल प्रारूप अन्य (जैसे टीआईएफएफ या बीएमपी) की तुलना में Web के लिए बेहतर अनुकूल हैं। यह सुनिश्चित करने के लिए कि वे Web के लिए अनुकूलित हैं, अपनी Images के लिए सही फ़ाइल स्वरूप चुनें।

 Images को संपीड़ित करें। Images को संपीड़ित करने से उनका फ़ाइल आकार और कम हो सकता है, जिससे वे Website पर तेज़ी से लोड हो सकते हैं। Images को संपीड़ित करने के लिए कई उपकरण और तकनीकें उपलब्ध हैं, जैसे कि Adobe Photoshop में "Web के लिए सहेजें" का उपयोग करना या Kraken.io जैसे टूल का उपयोग करना।

इन युक्तियों का पालन करके, Website के मालिक अपनी साइट पर उपयोग की जाने वाली Images को अनुकूलित करके अपनी Website की Loading Speed में काफी सुधार कर सकते हैं।

3- सामग्री वितरण Network (CDN) का उपयोग करें

एक सामग्री वितरण Network (CDN) सर्वरों का एक Network है जो Visitorsओं को उनके भौगोलिक स्थान के आधार पर Web सामग्री वितरित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। CDN का उपयोग करके, Website के मालिक सर्वर और Visitors के डिवाइस के बीच यात्रा करने के लिए आवश्यक दूरी को कम करके अपनी साइट की Loading Speed में सुधार कर सकते हैं।

CDN प्रदाता चुनने के लिए, Website के मालिकों को निम्नलिखित कारकों पर विचार करना चाहिए:

 विशेषताएं: विभिन्न CDN प्रदाता कई प्रकार की सुविधाएँ प्रदान करते हैं, जैसे कि विभिन्न फ़ाइल प्रकारों के लिए समर्थन, उच्च ट्रैफ़िक वॉल्यूम को संभालने की क्षमता और अन्य उपकरणों और प्लेटफार्मों के साथ एकीकरण। उन सुविधाओं पर विचार करें जो आपके लिए सबसे महत्वपूर्ण हैं और एक प्रदाता चुनें जो आपकी आवश्यकताओं को पूरा करता हो।

 मूल्य निर्धारण: CDN मूल्य निर्धारण प्रदाता और पेश की जाने वाली सुविधाओं के आधार पर व्यापक रूप से भिन्न हो सकता है। आपकी आवश्यकताओं के लिए सर्वोत्तम मूल्य प्रदान करने वाले को खोजने के लिए विभिन्न प्रदाताओं के मूल्य निर्धारण की तुलना करें।

 वैश्विक Network कवरेज: यदि आपकी Website के वैश्विक दर्शक हैं, तो सर्वरों के वैश्विक Network के साथ CDN प्रदाता चुनना महत्वपूर्ण है। यह सुनिश्चित करेगा कि किसी भी स्थान के Visitors आपकी Website को शीघ्रता और कुशलता से एक्सेस कर सकें।

इन कारकों पर विचार करके, Website के मालिक एक CDN प्रदाता चुन सकते हैं जो उनकी आवश्यकताओं के अनुकूल है और उनकी Website की Loading Speed को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है।

4- रीडायरेक्ट की संख्या कम करें

रीडायरेक्ट का उपयोग विज़िटर को एक URL से दूसरे URL पर भेजने के लिए किया जाता है, और जब वे कुछ स्थितियों में उपयोगी हो सकते हैं, तो अत्यधिक उपयोग किए जाने पर वे Website को धीमा भी कर सकते हैं। प्रत्येक रीडायरेक्ट के लिए एक अतिरिक्त HTTP अनुरोध-प्रतिक्रिया चक्र की आवश्यकता होती है, जो किसी Website की Loading Speed को बढ़ा और महत्वपूर्ण रूप से प्रभावित कर सकता है।

रीडायरेक्ट के उपयोग को कम करने और Website लोड करने की Speed में सुधार करने के लिए, Website के मालिक इन युक्तियों का पालन कर सकते हैं:

 स्थायी रीडायरेक्ट का उपयोग करें: स्थायी रीडायरेक्ट, जिसे "301 रीडायरेक्ट" के रूप में भी जाना जाता है, अस्थायी रीडायरेक्ट (जिन्हें "302 रीडायरेक्ट" भी कहा जाता है) की तुलना में अधिक कुशल होते हैं क्योंकि वे सर्च इंजन और ब्राउज़र को बताते हैं कि रीडायरेक्ट स्थायी है और मूल URL को हटाया जा सकता है उनके सूचकांक से।

 रीडायरेक्ट चेन से बचें: एक रीडायरेक्ट चेन तब होती है जब एक रीडायरेक्ट दूसरे पर ले जाता है, जो दूसरे पर ले जाता है, और इसी तरह। ये शृंखलाएँ किसी Website को महत्वपूर्ण रूप से धीमा कर सकती हैं, इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि जितना संभव हो सके उनका उपयोग कम से कम किया जाए।

 रीडायरेक्ट का उपयोग सामान्य रूप से कम करें: जबकि रीडायरेक्ट कुछ स्थितियों में उपयोगी हो सकते हैं, Website Loading Speed में सुधार करने के लिए जितना संभव हो सके उनके उपयोग को कम करना महत्वपूर्ण है।

इन युक्तियों का पालन करके, Website के मालिक अपनी Website पर रीडायरेक्ट की संख्या कम कर सकते हैं और इसकी Loading Speed में सुधार कर सकते हैं।

5- ब्राउज़र कैशिंग सक्षम करें

ब्राउज़र कैशिंग एक ऐसी तकनीक है जो एक Web ब्राउज़र को Visitors के डिवाइस पर स्थानीय रूप से कुछ Web तत्वों (जैसे छवियां, सीएसएस फ़ाइलें और जावास्क्रिप्ट फ़ाइलें) को स्टोर करने की अनुमति देती है। जब कोई Visitors किसी ऐसी Website पर दोबारा जाता है जिसे वे पहले ही देख चुके होते हैं, तो उनका ब्राउज़र सर्वर से उन्हें दोबारा डाउनलोड करने के बजाय उनके डिवाइस से कैश किए गए तत्वों को लोड कर सकता है। यह विशेष रूप से लौटने वाले आगंतुकों के लिए Website की Loading Speed में काफी सुधार कर सकता है।

किसी Website पर ब्राउज़र कैशिंग को सक्षम करने के लिए, Website के मालिक कुछ कदम उठा सकते हैं:

वर्डप्रेस जैसे कंटेंट मैनेजमेंट सिस्टम के लिए कैशिंग प्लगइन का उपयोग करें: कई लोकप्रिय कंटेंट मैनेजमेंट सिस्टम, जैसे वर्डप्रेस, में कैशिंग प्लगइन्स उपलब्ध हैं जो स्वचालित रूप से आपके लिए ब्राउज़र कैशिंग को संभाल सकते हैं।

 Website के सर्वर कॉन्फ़िगरेशन में कैशिंग हेडर जोड़ें: कैशिंग हेडर वे निर्देश हैं जो सर्वर से ब्राउज़र को भेजे जाते हैं, यह बताते हैं कि कुछ तत्वों को कब तक कैश करना है। किसी Website के सर्वर कॉन्फ़िगरेशन में कैशिंग हेडर जोड़कर, Website के मालिक यह नियंत्रित कर सकते हैं कि ब्राउज़र द्वारा कुछ तत्वों को कितनी देर तक कैश किया जाता है।

इन चरणों का पालन करके, Website के मालिक अपनी Website पर ब्राउज़र कैशिंग सक्षम कर सकते हैं और इसकी Loading Speed में सुधार कर सकते हैं।

FAQs

Bounce रेट क्या है?

Bounce rate एक मीट्रिक है जो किसी Website पर visitor के प्रतिशत को मापता है जो केवल एक पृष्ठ देखने के बाद साइट छोड़ देते हैं।

एक अच्छी Bounce rate क्या है?

इस प्रश्न का कोई एक उत्तर नहीं है, क्योंकि आदर्श Bounce rate Website के प्रकार और Website के स्वामी के लक्ष्यों के आधार पर भिन्न हो सकती है। सामान्य तौर पर, 40% से नीचे की Bounce rate को अच्छा माना जाता है, जबकि 60% से ऊपर की दर को उच्च माना जाता है।

Bounce rate किसी Website के प्रदर्शन को कैसे प्रभावित करती है?

एक उच्च उछाल दर यह संकेत दे सकती है कि Visitors को Website पर वह नहीं मिल रहा है जिसकी उन्हें तलाश है, या यह कि Website किसी अन्य तरीके से उनकी जरूरतों को पूरा नहीं कर रही है। यह जुड़ाव, रूपांतरण दर और खोज इंजन Ranking के संदर्भ में Website के प्रदर्शन पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है।

मैं अपनी Website की Bounce rate कैसे सुधार सकता हूँ?

ऐसी कई रणनीतियाँ हैं जिनका उपयोग Website की Bounce rate को बेहतर बनाने के लिए किया जा सकता है, जिसमें Website की लोडिंग गति को अनुकूलित करना, इसे Mobile के अनुकूल बनाना, सम्मोहक और प्रासंगिक सामग्री बनाना और Website के Design और उपयोगकर्ता अनुभव में सुधार करना शामिल है।

क्या कम Bounce rate किसी Website के प्रदर्शन को प्रभावित कर सकती है?

कुछ मामलों में, बहुत कम Bounce rate (20% से कम) यह संकेत दे सकती है कि Website एक अच्छा उपयोगकर्ता अनुभव प्रदान नहीं कर रही है, क्योंकि Visitors को यह महसूस हो सकता है कि उन्हें एक पृष्ठ से दूसरे पृष्ठ पर Bounce किया जा रहा है और उन्हें वह नहीं मिल रहा है जिसकी उन्हें तलाश है। इससे उच्च स्तर की हताशा हो सकती है और अंततः कम रूपांतरण दर हो सकती है।

निष्कर्ष

Visitors को आकर्षित करने और बनाए रखने के मामले में Website की प्रभावशीलता को मापने के लिए Bounce rate एक महत्वपूर्ण मीट्रिक है। एक उच्च उछाल दर यह संकेत दे सकती है कि एक Website अपने Visitors की जरूरतों को पूरा नहीं कर रही है, और इससे रूपांतरण दर कम हो सकती है और खोज इंजन Ranking खराब हो सकती है। दूसरी ओर, एक कम Bounce rate एक अच्छा उपयोगकर्ता अनुभव प्रदान करने और अपने Visitors की आवश्यकताओं को पूरा करने में Website की सफलता का एक सकारात्मक संकेतक हो सकता है। Bounce rate में सुधार करने के लिए, Website के मालिक लोडिंग गति को अनुकूलित करने, Website को Mobile के अनुकूल बनाने, उच्च-गुणवत्ता और प्रासंगिक सामग्री बनाने और Website के Design और उपयोगकर्ता अनुभव को बेहतर बनाने पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं। इन रणनीतियों को लागू करके, Website के मालिक इस संभावना को बढ़ा सकते हैं कि उनके Visitor साइट पर बने रहेंगे और सामग्री के साथ जुड़ेंगे, जिससे अंततः Website के लिए बेहतर प्रदर्शन होगा

Related Post

Advertisement

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here