Infrared Spectrophotometer Bsc 2nd year long question

0
3

Infrared Spectrophotometer Bsc 2nd year long question


1. (ii) अवरक्त स्पेक्ट्रोफोटोमीटर का वर्णन कीजिए।

Describe infrared spectrophotometer.

उत्तर-

अवरक्त स्पेक्ट्रोफोटोमीटर (IR-Spectrophotometer)

अवरक्त स्पेक्ट्रमों के अभिलेखन के लिये प्रयुक्त यंत्र को अवरक्त स्पेक्ट्रोमीटर या अवरक्त स्पेक्ट्रोफोटोमीटर कहते हैं। अधिकांश यंत्रों में 24 से 1511 (5000-667cmm ) का विस्तार होता है। स्पेक्ट्रोफोटोमीटर के सामान्य भागों और उनके कार्यों के विवरण नीचे दिये जा रहे हैं-

(a) विकिरण स्त्रोत (Radiation source)

अवरक्त विकिरण का स्त्रोत मुख्य रूप से एक तापदीप्त ठोस पदार्थ होता तो कृष्णिका रेडिएटर (black body radiator) के. अभिलक्षणों का अनुगमन करता है। टंगस्टन फिलामेण्ट लैम्प निकट अवरक्त क्षेत्र का आम स्त्रोत होता है। एक विद्युत् धारा द्वारा इसे सुर्ख लाल बनाये रखा जाता है। हाल में विकसित स्त्रोत के एच० ऑपरमैन का अविष्कार है। यह 2:8 वोल्ट और 30 वाट पर कार्य करता है यह 2.54 (4000 cm-‘) से 254 (400 cm). तक की विकिरण अवरक्त ऊर्जा देता है।

(b) अवरक्त मोनोक्रोमेटर (Infrared monochromator)

प्रिज्म और ग्रेटिंग आमतौर पर मोनोक्रोमेटर रूप में प्रयुक्त होते हैं। इस कार्य के लिये प्रिज्म और ग्रेटिंग का संयोजन भी प्रयुक्त होता है। सर्वाधिक प्रयुक्त आम प्रिज्म पदार्थ NaC! (सेंधा नमक) होता है जो 2.5 से 15.41 (10000-400 cm-1) तथा Csi (1000-260 cm) भी आमतौर पर प्रयुक्त किये जाते हैं।

(c) सेल प्रकोष्ठ (Cell compartment)

यह वह भाग होता है जिसमें प्रयुज्य सैम्पल सेलों में रखे जाते हैं। ये आमतौर पर सेंधा नमक (NaCl) या ऐसे ही दूसरे पदार्थ से बनाये जाते हैं।


MORE READ

Infrared Spectrophotometer Bsc 2nd year long question

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here