Environment notes pdf in hindi

0
8

Environment notes pdf in hindi

Welcome to dreamlife24.com. we are presented to you environment/ ecology notes “environment notes pdf in hindi” in this article you can find all environment and animal, plants, way how to prepare your exam and yu communication skills. This course is specially for Ba. Please share this article to your friends and other for helps to other person. “environment notes pdf in hindi”

Environment/ecology notes

जीव समुदाय (जन्तु एवं पौधे) का वातावरण से जो सम्बन्ध होता है। उसे परिस्थिकी कहते है।

ecology शब्द का पहली बार प्रयोग 1865 मंे जाॅन-रेटर ने किया ।
जीव समुदाय- जन्तु $ समुदाय- सम्बन्ध वातावरण/पर्यावरण
ecology को अर्नेस्ट हेकेल ने 1869 में विज्ञान विषय कहा।
ecology जीव विज्ञान की एक शाखा है।
परिस्थिकी तन्त्र
अजैविक तथा जैविक घटको के आपसी सम्बन्ध अन्तक्रिया को परिस्थिति तन्त्र कहते है।
परिस्थिकी तन्त्र शब्द के जनक ऐ.जी. टोन्सले थे।
परिस्थिकी तन्त्र को दो भागो में बाटा गया है।जैविक तन्त्र 2. अजैविक घटक

अजैविक घटक– यह एक निर्जीव तत्ब है। जिनके सहयोग से जैविक घटको का विकास होता है।

जैविक घटक– पृथ्वी पर समस्त जन्तु, प्राणी, एवं पौधे जो सजीव है, उन्हे जैविक घटक कहते है।
जैविक घटक के तीन भागा होते है।

उत्पादक– क्लोरोफिल में एम.जी. तत्व पाया जाता है।

1- उपभोक्ता – वे जीव जो अपने भोजन के लिए दुसरों पर आश्रित होते है।
उन्हे उपभोक्ता कहते है।
नोट- प्रत्येक उपभोक्ता को विषम भोजी भी कहते है।
वे जीव जो स्वयं भोजन बनाते है। उन्हे स्वपोषी कहते हें
उपभोक्ता तीन प्रकार के होते है।
प्रथम उपभोक्ता
– वे जीव जो हरे पेड़, पौधो व वनस्पतियों को खाते है। शाकाहारी कहलाते हैै।
जैसे- टिडडा, बकरी आदि।
द्वितीय उपभोक्ता- वे जीव जो मास या मात्र शाकाहारियों को खाते है। वे मासाहारी कहलाते है।
जैसे- मेढक।
तृतीय उपभोक्ता– वे जीव जो किसी को भी अपना शिकार बना सकते हैं। इसे उच्च शाकाहारी भी कहते है।
यह अपनी श्रेणी का अन्तिम जीव है।
जैसे- शेर, चीता, चील, बाजा, आादि।
नोट- मनुष्य शाकाहारी एवं मासाहारी दोनो होता है। इसलिए उसे सर्वाहारी कहते है।
अपघटक
वे जीव जो प्रत्येक वस्तु को सडा-गलाकर नष्ट करते है। उन्हे अपघटक की श्रेणी में रखा गया है।
संसार में दो जीव को अपघटक की श्रेणी में रखा गया है। 1- जीवाणु 2. कवक
अपघटको को दुनिया का महत्तर सफाई कर्मचारी कहते है।
प्रश्न- परिस्थिकी तन्त्र की आकृति किस प्रकार की होती है?
उत्तर- यह खुला तन्त्र का उदाहरण है।
प्रश्न- संसार का सबसे स्थायी तन्त्र क्या या कौन सा है ?
उत्तर- समुन्द्र जल तन्त्र
प्रश्न- परिस्थितिकी तन्त्र में किसी भी जीव द्वारा किया गया कार्य क्या कहलाता है।
उत्तर- परिस्थिकिकी कर्मता
प्रश्न- पौधे भोजन किस क्रिया के कारण बनाते है?
उत्तर- प्रकाश संश्लेषण
नोट– पौधे सोर उर्जा को रासायनिक उर्जा में बदल देते है।
नोट- सूर्य, पृथ्वी पर उर्जा लाने का कार्य करता है।
प्रश्न- खाध श्रृंखला क्या है?
उत्तर- ऐसी श्रृंखला जिसमें जीव उत्पादक से शुरू कर अन्तिम उपभोक्ता तक मौजुद रहे उसे खाद्य श्रृंखला कहते है।
जैसे- टिड्डा, मंेढक, साॅप, चील,
प्रश्न- खाध श्रंखला में किस रासायनिक क्रिया का उपयोग होता है?
उत्तर- आॅक्सीकरण
प्रश्न- खाद्य श्रृंखला में जब कोई जीव किसी दुसरे जीव को खाता है। तो कितनी प्रतिशत उर्जा स्थानान्तरित करता है?
उत्तर- 10 प्रतिशत
प्रश्न- खाद्य श्रृंखला में उर्जा की क्रिया कितने भागों में बढ सकती है?
उत्तर- एक ही दिशा में
प्रश्न- दो या दो से अधिक खाद्य श्रृंखलाएॅ मिलकर क्या बनाती है?
उत्तर- खाद्य जाल बनाती है।
प्रश्न- बायोम क्या होता है?
उत्तर- एक निश्चित क्षेत्रफल पर जीवित वनस्पति एवम् प्राणियों के कल भार को जैवभार या बायोम कहते है

more download in pdf

“environment notes pdf in hindi”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here